Bank account kitne prakar ke hote hain | बैंक में अकाउंट कितने प्रकार के होते हैं?

Bank account kitne prakar ke hote hain | बैंक में अकाउंट कितने प्रकार के होते हैं?

Bank account kitne prakar ke hote hain | बैंक में अकाउंट कितने प्रकार के होते हैं?
22 सितंबर 2021

 Bank account kitne prakar ke hote hain | बैंक में अकाउंट कितने प्रकार के होते हैं?

जब भी आप ATM का यूज करते हैं तो आप से पूछा जाता है कि आपका कौन सा अकाउंट टाइप है, चालू खाता है, या बचत खाता है। पर क्या आपको पता है चालू खाता (Current account) क्या होता है और बचत खाता (Saving account) क्या है? दोनो में क्या अंतर है। आज की इस आर्टिकल में हम डिटेल में बात करेंगे Bank account kitne prakar ke hote hain | बैंक में अकाउंट कितने प्रकार के होते हैं? और इन सभी अकाउंट का क्या यूज होता है?


बैंक में अकाउंट कितने प्रकार के होते हैं - Bank account kitne prakar ke hote hain

Bank account kitne prakar ke hote hain | बैंक में अकाउंट कितने प्रकार के होते हैं?
Bank account kitne prakar ke hote hain


बैंको में मुख्य रूप से 4 तरह के अकाउंट होते हैं -

1) बचत खाता- Savings Account

2) चालू खाता – Current Account

3) आवर्ती जमा खाता- Recurring Deposit Account

4) सावधि जमा खाता- Fixed Deposit Account

चलिए इन खातो के बारे में विस्तार से जाने-


बचत खाता किसे कहते हैं - Savings account kya hota hai?

जैसा की इसका नाम ही है बचत खाता यानी सेविंग अकाउंट, यह अकाउंट अपने पैसो को सेव करने के लिए खोला जाता है। इस अकाउंट को कोई भी व्यक्ति जैसे आम नागरिक, सरकारी कर्मचारी, जॉव करने वाला व्यक्ति, क्षात्र, या पेंशन वाला व्यक्ति इत्यादि कोई भी Saving account खुलवा सकता है। सेविंग अकाउंट में जमा की हुई राशि (पैसे) पर खाताधारक को 4-6% ब्याज (Interest) भी दिया जाता है। और यह Interest rate अलग-अलग बैंको की अलग-अलग होती है। इसमें आप जितने चाहे उतने पैसे जमा कर सकते हैं।


लेकिन बचत खाता में कुछ पाबंदिया होती है, इसमें आप एक दिन में केवल 5 transection ही कर सकते हैं। जिसके कारण खाताधारक सेविंग अकाउंट से पैसे निकालने में दिक्कत होती है इसके साथ ही आप बचत खाता से 50 रुपये से कम पैसे नहीं निकाल सकते हैं। और ATM से 6 महीने के अंदर 30 से अधिक बार पैसे नही निकाल सकते हैं। ज्यातर बैंक अपने सेविंग अकाउंट पर मिनिमम बैलेंस रखने के लिए बाध्य करती हैं। यह अमाउंट सरकारी बैंको में 500 से 1000 तक हो सकती है और प्राइवेट बैंको में 5000 से 25000 तक की न्यूनतम राशि रखने के लिए बाध्य करती है। लेकिन बैंक समय-समय पर इन नियमों में बदलाव भी कर सकती है।



कुछ बचत खाता 0 बैलेस पर भी खोले जाते हैं जैसे वजीफे के लिए खोला गया अकाउंट, प्रधान मंत्री जन-धन खाता में 0 बैलेंस रखा जा सकता है। सेविंग अकाउंट खुलवाने वाले ग्राहक को पासबुक, चेकबुक, डेबिट कार्ड (ATM Card), क्रेडिट कार्ड, नेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग जैसी सुविधा प्रदान की जाती है। आप बचत खाते से आप Online shopping, बिलो का भुगतान कर सकते हैं। किसी दूसरे अकाउंट में पैसे भेज तथा प्राप्त कर सकते हैं


चालू खाता क्या होता है – Current account kya hota hai in hindi

चालू खाता ऐसे लोगों के लिए होता है जिनका रोज का Transitions लाखो में होता है। और एक ही दिन में कई ट्राजेक्शन होते रहते हैं। क्योंकि चालू खाता (Current account) में आप एक दिन में जितने चाहे उतने पैसो का लेन-देन यानी ट्रान्जेक्शन कर सकते है। इसमें पैसो की लेन-देन पर किसी भी प्रकार की कोई लिमिटेशन नही होती है। करंट अकाउंट मुख्य रूप से उद्दयमी, कम्पनी, फर्म और छोटे-बड़े व्यापारी के लिए होता है। जिनके पैसो का फ्लो ज्यादा होता है। लेकिन आम तौर पर इसे भी कोई भी व्यक्ति खुलवा सकता है।


Current account में रखे गए पैसो पर बैंक कोई भी ब्याज नही देता है। यानी की आप इसमें सेविंग अकाउंट की तरह अपने जमा पैसो पर कोई भी इंटरेस्ट नही प्राप्त कर सकते हैं। लेकिन आपसे बैंक सर्विस चार्ज अलग से लेती है।


इसका बहुत बड़ा फायदा यह होता है कि इसमें Overdraft की सुविधा ग्राहक को दी जाती है। इसका मतलब यह है कि जब आपके चालू खाता (Current account) में पैसे नही रहते हैं या जितने पैसे हैं उससे ज्यादा भी आप पैसे निकाल सकते हैं। और फिर बाद में बैंक को चुका सकते है। इसके अलावा बैंक डिमांड ड्राफ्ट, पेऑर्डर जारी करने, NEFT से फंड ट्रांसफर करने, चेक कलेक्शन, भुगतान और मुफ्ट कैश डिपोजिट सामिल है।


आवर्ती जमा खाता क्या होता है - Recurring deposit account meaning in hindi

आवर्ती जमा खाता यानी Recurring deposit account जिसे सॉर्ट में RD account भी कहते हैं। RD A/C उनके लिए होता है जो अपनी एक निश्चित तय धन राशि एक निश्चित समय के लिए हर महीने जमा करना चाहते हैं। और यह निश्चित समय अवधि पूरा हो जाने पर अधिक ब्याज के साथ उनका पैसा लौटा दिया जाता है।


Recurring deposit account में जमा किए गए पैसो को आप तय समय से पहले नही निकाल सकते हैं। आवर्ती जमा खाता सिंगल या ज्वाइंट खाता खोले जा सकते हैं।


सावधि जमा खाता किसे कहते हैं - Fixed deposit account meaning in hindi

Fixed deposit account जिसे आम तौर पर FD भी कहा जाता है। यह ऐसा अकाउट होता है जिसमें विशेष समय अवधि के लिए एक बार में ही एक तय की गई राशि फिक्स (जमा) कर दिया जाता है। इसमें भी RD account की तरह तय समय से पहले पैसे नही निकाल सकते हैं। समय से पहले पैसे निकाल तो सकते हैं पर आपको बैंक इसके लिए पैनालिटी देता है, जो सभी बैंको में अलग अलग होता है। Fixed deposit account में उपभोक्ता को High interest rate मिलता है। जो कि जमा किये गए पैसे और समय अवधि के हिसाव से अलग-अलग होता है। अधिकतम 10 सालों के लिए यह FD Account खोला जाता है।


तो दोस्तों ये थे बैंक अकाउंट जो कि बैंको द्वारा मेन रुप से यही 4 अकाउंट खोले जाते हैं। इस पोस्ट में हमने जाना कि Bank account kitne prakar ke hote hain - बैंक में अकाउंट कितने प्रकार के होते हैं? कौन से अकाउंट किस काम के लिए खोले जाते हैं। और इनके क्या क्या फायदे और नुकसान होते हैं।


यह पोस्ट भी आपके लिए यूजफुल है

SBI Bank में अकाउंट कैसे खुलवाए?

इंटरनेट बैंकिंग आईडी कैसे बनाते हैं?

बैंक अकाउंट बंद कराने के लिए आवेदन कैसे लिखे?

दोस्तों कमेंट ज़रूर करें क्योंकि आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढ़ाती हैं, और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! धन्यवाद 🙏💕