Starlink Internet Speed | Starlink क्या है | स्टारलिंक इंटरनेट स्पीड कितनी है

Starlink Internet Speed | Starlink क्या है | स्टारलिंक इंटरनेट स्पीड कितनी है

Starlink Internet Speed | Starlink क्या है | स्टारलिंक इंटरनेट स्पीड कितनी है
17 मार्च 2021

 

Starlink internet – क्या है Starlink


भविष्य की टेक्नोलॉजी पर काम करने वाले एलॉन मस्क ने अब पूरी दुनिया को सेटेलाइट इंटरनेट देने का प्लान ला चुके है। Elon Musk 42,000 Satellite के जरिए पूरी दुनिया तक internet पहुंचाना चाहते है। इसके लिए इन्होंने Starlink  कंपनी के जरिए दुनिया भर में सेटेलाइट इंटरनेट उपलब्ध करा रहे हैं।

 

Starlink internet कैसे काम करेगा
Starlink internet कैसे काम करेगा


चूँकि इनकी कंपनी SpaceX है जो कि Satellite को लॉन्च करने में मदद करेगी। और इनके पास खुद के रॉकेट्स है। इसलिए सेटेलाईट लॉच करने में खर्चा कम आएगा। अभी तक लगभग 1081 Satellites को लॉच किया जा चुका है और जल्द ही 12000 का आकड़ा छू सकते है।

 

Starlink internet कैसे काम करेगा

एलन मस्क का सेटेलाइट इंटरनेट, Wireless है इसे Access करने के लिए आपके छत पर एक सेटेलाइट डिश एंटीना लगवाना होगा। यह एंटीना डायरेक्ट सेटेलाइट से कनेक्ट होगा सिग्नल को आपके मोबाइल तक पहुंचाएगा और आपको इंटरनेट का एक्सेस प्रदान करेगा। यह सब पूर्णतः Wireless होगा, इसलिए दुनिया के किसी भी कोने में आसानी से इसका लाभ लिया जा सकेगा वो भी फुल स्पीट के साथ।


Starlink internet कैसे काम करेगा
Satellite Internet Antenna

 

Starlink internet speed

फिलहाल अभी यूजर्स को 150Mbps तक speed मिल रही है। लेकिन इसकी स्पीड को 2021 के अंत तक 300Mbps तक लाने की बात एलॉन मस्क ने की है। लेकिन यह फाइबर इंटरनेट की तुलना में काफी कम है। इसका कारण यह है कि फिलहाल अभी उन जगहों पर फोकस किया गया है जहाँ इंटरनेट की सुविधा नही पहुँच पाई है। और आगे इसमें स्पीड देखने को मिल सकती है।

 

Starlink internet cost

फिलहाल इसकी कीमत अभी ज्यादा है भारत में इसके लिए लगभग 99 डॉलर यानि 7000 रूपये से प्री ऑर्डर शुरू हुआ है। अभी इसकी कास्ट तो काफी ज्यादा है, लेकिन आगे आने वाले समय में सस्ता हो सकता है। जैसे-जैसे यूजर बढ़ेगे और साथ ही और सुधार होने के बाद।

 

Starlink india

भारत में भी स्टारलिंक की Satellite internet की सुविधा के लिए प्री बुकिंग शुरू हो चुकी है। जिसकी परिणाम 2021 के बाद देखने को मिल सकता है। लेकिन यह अभी काफी महँगा साबित हो रहा। सेटेलाईट इंटरनेट को एक्सेस करने के लिए मिलने वाले उपकरण के लिए आपको 50-60 हजार खर्च करने होगें। लेकिन इसका एक फायदा यह है कि यह दुनिया के दुर्गम स्थानों तक आसानी से पहुंचाया जा सकता है। जबकि फाइबर आप्टिक इंटरनेट को पहुंचाना काफी मुश्किल है।

कमेंट ज़रूर करें क्योंकि आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढ़ाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !!